साहित्य अकादमी के प्रतिष्ठित जमदग्नि प्रसंग को महू के निकट स्थित उनकी तपोस्थली जानापाव के कारण महू नगर में 14 दिसम्बर, 2020 को संपन्न किया गया। इस अवसर पर महर्षि जमदग्नि के व्यक्तित्व कृतित्व पर केंद्रित व्याख्यान “सप्त ऋषि परंपरा और महर्षि जमदग्नि” विषय पर रतलाम से पधारे डॉ मुरलीधर चांदनीवाला, इंदौर के डॉ विनायक पांडे और उज्जैन के श्री रमेश शुक्ला द्वारा अपने विचार रखे गए। सभी अतिथियों का स्वागत साहित्य अकादमी के निदेशक डॉ विकास दवे ने किया।
इस अवसर पर मालवी निमाड़ी और लोक गीतों का गायन करने वाले श्री सुंदरलाल मालवीय द्वारा महर्षि जमदग्नि पर केंद्रित सुंदर गीतों की प्रस्तुति तथा भक्ति संगीत की प्रस्तुति ने वातावरण को सरस बना दिया। इस अवसर पर भारत के प्रख्यात कवि श्री शंभू सिंह मनहर जी की पुस्तक “नई कविता को रघुवीर सहाय का योगदान” एवं श्री मुरलीधर चाँदनिवाला द्वारा रचित पुस्तक “विरासत के फूल” का विमोचन भी सम्पन्न हुआ।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.