साहित्य अकादमी के निरंतर शृंखला में कल दिनांक 10 फरवरी, 2021 को निमाड़ी, मालवी, बुंदेली, बघेली एवं पचेली बोलियों पर व्याख्यान एवं रचनापाठ के अवसर पर साहित्य अकादमी के निदेशक डाॅ. विकास दवे ने सभी अतिथियों का स्वागत किया।

lecture on 5 languages by sahitya academy

बोलियाँ माँ की गोद जैसा सुकून देती हैं

अपने स्वागत वक्तव्य और विषय प्रवर्तन में उन्होंने कहा कि “बोलियाँ माँ की गोद जैसा सुकून देती हैं। यह देश का दुर्भाग्य था की कल तक ‘पीयर री वाट’ की चर्चा औरंगजेब रोड और अकबर रोड पर एयर कंडीशन कमरों में होती रही। मध्यप्रदेश शासन और संस्कृति विभाग के सान्निध्य में साहित्य अकादमी ने इस बोली विमर्श को ‘लोक’ का हिस्सा बनाया है। हम इन बोलियों, लोक गीतों और लोकोक्तियों की वैज्ञानिकता पर शोध करने की आवश्यकता है। इनमें निहित समाज, लोक, राजनीति और पर्यावरण विज्ञान से जुड़े आयामों को नई पीढ़ी के समक्ष रखना होगा”।

डाॅ श्रीनिवास शुक्ल सरस-सीधी से बघेली के बरिष्ठ साहित्यकार ने कहा कि बोलियों की सरिता का पानी भाषा के सागर में जाता है। अतएव हमारी बोलियों का साहित्य ऐसा होना चाहिए, जिसमें राष्ट्रीयता का स्वर हो, स्वदेशीपन की अपनी मिट्टी में सोंधाई और लोनाई हो।

डाॅ सरस ने बघेली भाषा के सामथ्र्य को आरेखित करते हुए कहा कि हमारे बघेली का साहित्य सम्पुष्ट एवं समृद्ध है। अब इसके पास स्वयं का बघेली शब्दकोश, बघेली व्याकरण और बघेली साहित्य का इतिहास है।

lecture on 5 languages by sahitya academy

डाॅ सरस ने ‘बेटी बचाओ बेटी पढाओ’ के समर्थन में बघेली गजल प्रस्तुत करते हुए राष्ट्र भक्ति एवं देश प्रेम पर आधारित बघेली सबैया के माध्यम से काव्य पाठ भी किया। ‘‘हमहूँ का आमै देय कहै बिटिया/दूबी कस जामैं देय कहै बिटिया/माया केर नाव अउ बबुल केर गाॅव/हमूं का चलामैं देय कहै बिटिया।’’

श्री हरीश दुबे-महेश्वर वरिष्ठ साहित्यकार ने कहा कि संत सिंगाजी के आंगन में फूली-फली, मां नर्मदा की चंचल लहरों पर झूला झूली। निमाड़ी एक संस्कारवान बोली है। सैकड़ों वर्षों की संघर्ष यात्रा में अनेक पड़ावों से गुजरने वाली निमाड़ी आज अपने तेज और ताप को प्रकट कर रही है। नई पीढ़ी द्वारा निमाड़ी में हो रहा विपुल मात्रा में सृजन कर्म और वृहद व्याकरण का निर्माण आज उसे भाषा बनने की योग्यता के निकट पा रहा है। यह हम सब निमाड़ियों के लिए गर्व का विषय है। उन्होंने निमाड़ी गीत- निमाड़ी मीठी बोली छे/एक कावे तमे बी आवजो/म्हारा निमाड़ मे स/नरबदा मैया तू महाराणी छे भी प्रस्तुत किया।

जबलपुर से पधारे वरिष्ठ साहित्यकार डाॅ. कौशल दुबे ने पचेली पर बोलते हुआ कहा कि किसी भी देश या प्रदेश का भौगोलिक विस्तार कितना भी वृहत् हो मगर उसका केन्द्र-बिंदु तो एक अत्यन्त सीमित क्षेत्रा ही हो सकता है। मध्यप्रदेश के दो महानगरों जबलपुर और कटनी के बीच का क्षेत्र ही पचेल नाम से लोकजीवन में अभिहित होता आया है।

23 डिग्री 35 मिनट उत्तरी अक्षांश और 80 डिग्री 20 मिनट पूर्वी देशांतर का क्षेत्रा ही वह क्षेत्र है, जो विंध्याचल पर्वतमाला की शाखा भितरीगढ़ की पहाड़ियों के रूप में जाना जाता है। यहीं पर केंचुआ नाम की पहाड़ियों के बीच भारत का भौगोलिक केन्द्र करौंदी (मनोहर ग्राम, राममनोहर लोहिया के नाम पर) स्थित है, जिसकी पहचान चिह्न के रूप में चार सिंह चारों दिशाओं को देखते हुए मूर्तिमान हैं। यहीं पर महर्षि महेश योगी द्वारा स्थापित वैदिक विश्व विद्यालय भी है।

lecture on 5 languages by sahitya academy

यह परिचय इसलिए महत्त्वपूर्ण है कि इसी स्थल से पश्चिम दिशा की ओर संकेत करके हम कह सकते हैं कि इस तरफ शौरसेनी अपभ्रंश से उद्भूत पश्चिमी हिंदी की शाखा बुंदेली का क्षेत्र है और पूर्व की ओर इंगित करते हुए कह सकते हैं कि यह अर्धमागधी अपभ्रंश की शाखा पूर्वी हिंदी क्षेत्र है। यहीं से दक्षिण दिशा की ओर अर्धमागधी की एक और शाखा छत्तीसगढ़ी की उपशाखा गोंड़ी की ओर इंगित किया जा सकता है।

वस्तुतः पचेल के पूर्व में बघेली, पश्चिम में बुंदेली और दक्षिण में गोंड़ रियासतों के प्रभाव से यहाँ का लोकस्वर स्थानीय बोलियों और कुछ अरबी फारसी शब्दों के पंचमेल से पंचमेल खिचड़ी जैसे भाषायी स्वाद जैसा है।

पंचमेल खिचड़ी के इस परिपाक में जिन तत्त्वों ने योगदान किया उनमें, सामाजिक संबंध, भौगोलिक स्थिति, राजनीतिक प्रभाव और परम्परागत सांस्कृतिक चेतना को प्रमुख माना जा सकता है। पश्चिम दिशा में विवाह संबंध होने से संपर्क बढ़ते रहे और धीरे-धीरे बुंदेली का स्वाद बढ़ता रहा। पूर्व में विवाह संबंध होने और आवागमन बढ़ने से बघेली के भाषायी तत्त्व मिलते गये। छोटी-बड़ी अनेक गोंड़ी रियासतों जैसे भँड़रा, पचेलगढ़, खँदवारा, खलरी, भनपुरा, दिमापुर आदि के प्रभाव से गोंड़ी शब्द भी खिचड़ी का हिस्सा बने। पूर्वी हिंदी की शाखा बघेली, छतीसगढ़ी की उपशाखा गोंड़ी और पश्चिमी हिंदी की शाखा बुंदेली की संगमस्थली है पचेल जहाँ की बोली है पचेली। प्रचलित जनश्रुति है.

गाँव पाँच सौ बसै पचेल
बीचै बीच जिखे परसेल।

यह भारत के भौगोलिक केन्द्र की मातृभाषा या बोली है जो इसका वैशिष्ट्य है। इसमें देशज के साथ कुछ अरबी और फारसी के शब्द भी मिश्रित हैं। बिखलीपत (वृषलीपति), खटकरम (षट्कर्म) जैसे संस्कृत के अपभ्रंश शब्द भी मिलते हैं।

lecture on 5 languages by sahitya academy

प्रदीप जोशी-इंदौर ने अपने वक्तव्य में कहा कि मालवा धरती गगन गंभीर पग-पग रोटी डग-डग नीर कहते हैं कि मालवा के निवासियों में होमसिकनेस होती है जो सही भी है वस्तुतः मालवा का रहने वाला व्यक्ति मालवा में ही जिंदगी बसर कर देता है। बोलियां वाचिक परंपरा से ही पुष्पित पल्लवित एवं फलित होती है मालवी के इतिहास पर दृष्टि डाले तो ऐसा कोई साक्ष्य सामने नहीं आता है कि मालवी में साहित्य लेखन कब से प्रारंभ हुआ फिर भी पन्नालाल नायाब मालवी कविता के पितामह कहे जा सकते हैं। जिस प्रकार से भाषाओं को जानने एवं मानने वाले लोग जब मिलते हैं तो अपनी भाषा में ही बात करना पसंद करते हैं उसी प्रकार से क्षेत्राीय बोलियो को जानने वालों को भी चाहिए कि वह अपनी ही बोली में बात करें हम मालवा वासियों को मालवी ने ही चर्चा परिचर्चा वार्तालाप संवाद करना चाहिए।

अशोक सिंहास ने अपने व्याख्यान ने अपने वक्तव्य में कहा कि बुंदेली बुंदेलखंड में बोली जाने वाली भाषा है। बुन्देलखण्ड की भौगोलोक सीमा का परिज्ञान बुंदेली के विविध रूपों एवम क्षेत्रों से होता है। यह प्रदेश प्राकृतिक वैभव, पुरातत्व, साहित्यिक सांस्कृतिक परंपराओं आदि की दृष्टि से भारत वर्ष का सर्वाधिक समृद्ध भू-भाग है तथा देश का मध्य भाग होने के कारण यहाँ विदेशी आक्रमणों का प्रभाव विलंब से एवम अल्पकाल के लिए हुआ है। केंद्रीय शासन की दृष्टि इस प्रदेश पर कम ही पड़ी है। प्राकृतिक निधियों को यहाँ के निवासियों ने विरासत में पाया है। सर्व साधारण का जीवन आदिकाल से ही सरल और श्रम पूर्ण रहा है। इसीलिए बुंदेलीजन सदैव संघर्ष शील रहे हैं उनके रीति रिवाज, संकल्प, व्यवसाय, आजीविका के अन्य साधन, धार्मिक विचार, साहित्यिक योगदानों में प्राकृतिक परिवेशों के साथ साथ सांस्कृतिक वातावरण का महत्वपूर्ण योगदान है।

 

4 Replies to “साहित्य अकादमी के निरंतर शृंखला में प्रदेश की 5 बोलियों पर व्याख्यान एवं रचनापाठ संपन्न”

  1. प्रो. डा. उषा गौर

    सैकड़ों वर्षों से भारत में बोली जाने वाली विविध बोलियाँ हमारे समृद्घ संस्कारवान और सृजनात्मक इतिहास की धरोहर रही हैं ।
    साहित्य अकादमी के प्रयासों से इनमें नवजीवन नई ऊर्जा और नई चेतना के द्वारा पुनः पल्लवित और विकसित करने के जो प्रयास किये जा रहे हैं उनकी महती आवश्यकता है
    समस्त साहित्यकार साहित्य अकादमी के अतुलनीय प्रयासों की प्रशंसा करते हैं और उनके साथ इस यात्रा में शामिल हो कर इसकी समृद्धि में अपना योगदान देना चाहते हैं
    मैं प्रो डा उषा गौर भी इससे जुडकरअपना पूर्ण योगदान देने को तत्पर हूं।

    • Sahitya Academy

      आभार उषा दीदी | बोलियाँ मेरी भी प्राथमिकता है | कुछ अच्छा करेंगे |

  2. अशोक त्रिपाठी "माधव"

    अति उत्कृष्ट कार्य आदरणीय श्री विकास दवे जी निदेशक महोदय साहित्य अकादमी भोपाल आपकी पदस्थापना से साहित्यिक क्षेत्र में नई उर्जा का संचार हुआ है।आशा है कि साहित्य को समृद्ध बनाने में आपकी भूमिका सराहनीय रहेगी आपके द्वारा किए जा रहे साहित्यकार कोष की स्थापना एवं साहित्यकारो का परिचय संग्रहण प्रदेश में साहित्यकारों को महत्वपूर्ण स्थान प्रदान करने में सहायक होगा।

    • Sahitya Academy

      धन्यवाद अशोक जी | बस कुछ नवाचार कर लें जब तक यहाँ हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published.